Tuesday, 9 September 2014

दिल की कलम से...


ख़यालों  ने  उनके  सताया  है  इस  क़दर,   के  राबता  हो  उनसे....तो  पूछेंगे  ज़रूर ;
तराशा  है  तुम्हें  खुद  उस  ख़ुदा  ने,   या  हो  तुम  परी....या  कोई  हूर |

है  तुमसे  ही  धड़कन  इस  दिल  की,   और  तुम्ही  से  इन  आँखों  का  नूर;
मर  ही  मिटा  तुमपर,  तो  इस  दिल  का  क्या  क़सूर |

 के   इस  दिल  ने  ही  दिखाई  अंधेरों  में ,  नज़रों  को  राहें  तमाम  हैं;
माना  हुई  है  इससे  ख़ता,   पर  क़ुबूल  हमें  भी  ये  ख़ूबसूरत  इल्ज़ाम  है |

न  जाने  हुआ  ये  कैसे ,   के  एक   ही   झलक  में  दिल-ओ-जान  गवाँ  बैठे;
अजनबी  हुए  ख़ुद  से,  और  उन्हे  भगवान  बना  बैठे |

जादू  चला  उनका  कुछ  इस  तरह ,  के  हम...रहे  नहीं  हम;
पर  मिल  जाए  उनका  साथ  अगर,   तो  ख़ुद  को  खोने  का  भी  नही  ग़म |

के  इस  बेखुदी  में  जो  मज़ा   है,   वो  होश  में  आने  में  कहाँ ;
उनकी  नज़रों  में  अपनी  तस्वीर  सा  नशा ,   किसी   पैमाने   में  कहाँ |

बयाँ  करूँ  भी  तो   कैसे,   के  बीते  कैसे  बरसों... इन  नज़रों  की  तलाश  में;
ज़िंदा  होने  के  इल्ज़ाम  तले ,   चल  रही  थी  साँसें ...ज़िंदगी  की  आस  में |

ज़िंदगी  की  तपती  धूप  में ,   राहत...शाम  में  हमने  पाई  है;
गुज़र  गये  वो  झुलस्ते  मंज़र,    के  जीवन  में  शब  लौट  आई  है|

ख्वाबों  के  इस  वीराने  में ,   क्या  खूब  हरियाली  छाई  है;
के  ढूंड  रहे  थे  हम  अल्फाज़ों  को,  और...खुद  ग़ज़ल  ही  चली  आई  है |

के   बयान   हो  कैसे  इन   लफ़्ज़ों   में,   जो  शख्सियत  ही  ख़ुदाया  है;
याकता  वो  हीर,    जिसने  इस  दिल  को  सजाया  है |


No comments:

Post a Comment